ई-कार बनाने के लिए महिंद्रा, टाटा मोटर्स और निसान ने लगाई बोली

0
25
  • ईईएसएल ने 10,000 इलेक्ट्रिक कारों की खरीद के लिए जारी की निविदा

  • अगले 12 माह में दो चरणों में की जाएगी वाहनों की खरीद

  • सरकारी विभागों और कार्यालयों को पट्टे पर ई-कार देगी सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी ईईएसएल

नई दिल्ली । अगर सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों की सड़क पर तेजी से बढ़ रही है तो कार कंपनियां भी पीछे नहीं हैं। देश में इलेक्ट्रिक कारों के लिए हाल ही में निकाली गई पहली निविदा के जवाब में महिंद्रा ऐंड महिंद्रा, टाटा मोटर्स और जापानी कंपनी निसान ने बोलियां लगाई हैं।

निविदा के तहत 10,000 कार खरीदी जानी हैं। इनकी आपूर्ति 12 महीनों के दौरान 2 चरणों में की जाएगी। खरीद की प्रक्रिया अगले वर्ष के अंत तक पूरी होने की उम्मीद है। पहले चरण में तीन माह के दौरान 500 इलेक्ट्रिक कार खरीदी जाएंगी और बाकी 9,500 कार बाद के 9 महीनों में खरीदी जाएंगी।

कंपनियां इन कारों को एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) के हाथों थोक में बेचेंगी, जिस कारण उन्हें कारों को बाजार में उतारने या उनके विज्ञापन अथवा प्रचार पर एक पाई भी खर्च नहीं करनी पड़ेगी। यही वजह है कि निविदा के लिए कंपनियों ने काफी कम कीमत पर बोली लगाई है।

ईईएसएल के प्रबंध निदेशक सौरभ कुमार ने कहा, ‘तीन कंपनियों से बोली मिलना हमारे लिए खुशी की बात है। हमें लग रहा था कि निविदा के जवाब में कम से कम दो बोलियां तो जरूर आएंगी।’ इस निविदा के लिए बोलियों से पहले अगस्त के अंतिम हफ्ते में एक बैठक हुई थी, जिसमें टाटा मोटर्स, महिंद्रा, हुंडई, निसान और रेनो के नुमाइंदों ने हिस्सा लिया था।

चार सरकारी कंपनियों-एनटीपीसी, पावरग्रिड, पीएफसी और आरईसी की संयुक्त उपक्रम ईईएसएल ने 10,000 इलेक्ट्रिक कारों की खरीद के लिए 15 अगस्त को निविदा जारी की थी। उसकी योजना इन्हें खरीदकर सरकारी विभागों और कार्यालयों को पट्टे पर मुहैया कराने की है।

आरंभ में बिजली मंत्रालय और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में सार्वजनिक बिजली इकाइयों के कार्यालयों को ये गाडिय़ां दी जाएंगी। हालांकि यह पता नहीं चल पाया है कि तीनों कंपनियों ने कितनी-कितनी कारों के लिए बोली लगाई हैं और इन कारों की कीमत क्या होगी।

 पिछले कुछ समय से इलेक्ट्रिक कार बना रही महिंद्रा ने सबसे ज्यादा कारों के लिए बोली लगाई होगी। कंपनी के पास फिलहाल दो इलेक्ट्रिक वाहन – ई2ओ (हैचबैक) और वेरिटो (सिडैन) हैं, लेकिन उनकी बिक्री 2,000 से भी कम रही है। महिंद्रा के ई-वाहनों की कीमत करीब 8 से 11 लाख रुपये के बीच है।