8 प्रतिशत से ज्यादा विकास दर की राह पर भारत -विश्व बैंक

0
30

विश्व बैंक इंडिया के प्रमुख जुनैद अहमद ने कहा, वस्तु एवं सेवा कर कानून (जीएसटी) को एक संरचनात्मक सुधार करार दिया है, इसने भारत के लिए 8 फीसद की ग्रोथ की संभावना को तेज कर दिया है

नई दिल्ली। जीएसटी को लेकर देश में भले ही अलग-अलग सोच बन रही हो लेकिन विश्व बैंक इससे काफी खुश नजर आ रहा है। उसका कहना है कि जीएसटी के चलते भारत की विकास दर 8 प्रतिशत के रास्त पर जा रही है।

खबरों के अनुसार विश्व बैंक इंडिया के प्रमुख जुनैद अहमद ने वस्तु एवं सेवा कर कानून (जीएसटी) को एक संरचनात्मक सुधार करार दिया है। साथ ही उनका कहना है कि इसने भारत के लिए 8 फीसद की ग्रोथ की संभावना को तेज कर दिया है।

भारत ने साल 2016-17 के दौरान 7.1 फीसद की रिकॉर्ड ग्रोथ हासिल की थी और चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के दौरान यह 5.7 फीसद रही। एक इंडस्ट्री इवेंट के दौरान भारत में वर्ल्ड बैंक के कंट्री हैड जुनैद अहमद ने बताया,“आज भारत 8 फीसद से अधिक विकास दर से बढ़ने की संभावना की कगार पर है।

क्योंकि भारत ने अपने बाजार के एकीकृत करने के लिए साहसिक कदम उठाया है। इसलिए जीएसटी में शिफ्ट करना एक संरचनात्मक सुधार है।” उद्योग मंडल पीएचडी चैंबर्स ऑफ कॉमर्स के सदस्यों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि अगर जीएसटी सही तरीके से क्रियान्वित होता है, वृद्धि को काफी गति मिलेगी।

जुनैद अहमद ने कहा, ‘एक बाजार के रूप में जीएसटी जो दे सकता है, उसके लिए आपको (भारत) ट्रांसपोर्ट सिस्टम चाहिए।’ गौरतलब है कि जीएसटी को 1 जुलाई 2017 को पूरे देश में लागू कर दिया गया था। जीएसटी काउंसिल अब तक कुल 21 बैठकें कर चुकी है और काउंसिल की 22वीं बैठक 6 अक्टूबर को होनी है।